Nati Dance in Hindi ! Nati Loknritya(Folk Dance) क्या है? हिमाचल प्रदेश के लोकनृत्य कौन कौन से हैं?

Nati Dance in Hindi: हिमाचल प्रदेश का प्रसिद्ध लोक नृत्य Nati Dance बहुत ही पॉपुलर है। Nati Dance हिमाचल प्रदेश के क्षेत्र के अनुसार अलग-अलग तरह की होती है। Nati Dance नए साल का जश्न मनाने के लिए भी किया जाता है जब खेतों से फसल का उत्पादन होता है उस खुशी में भी लोग इस के डांस करते हैं।

इस नृत्य के बहुत सारे प्रकार हैं जैसे कि कुल्लू नाटी, किन्नौरी नाटी, गद्दी नाटी, शिमला नाटी। यहां के लोग बहुत सारे त्योहारों में जैसे कि महाशिवरात्रि, दुर्गा पूजा या और भी बड़े-बड़े त्योहारों में “Nati Dance” करते हैं। खासकर हिमाचल प्रदेश के लोगों के द्वारा यह डांस परफॉर्म किया जाता है। आज इस पोस्ट में हम आपको विस्तार से नाटी डांस (Nati Dance in Hindi) के बारे में बताएँगे.

Nati Dance in Hindi- Folk Dance of India (bharat ke pramukh lok nritya)
Folk Dance Of India (भारत के प्रसिद्ध लोकनृत्य )

वैसे भी हिमाचल प्रदेश को देवभूमि कहकर पुकारा गया है। क्योंकि वहां के लोगों का मानना है की यहां के प्रत्येक गांव का संरक्षण यहां के स्थानीय देवी देवता ही है। और देवी देवताओं को खुश करने के लिए स्थानीय लोग बहुत सारे लोक नृत्य परफॉर्म करते हैं।

हिमाचल प्रदेश की खास बात यह है कि आज के आधुनिक दौर में भी वहां के लोग अपनी संस्कृति को संजो कर रखा है तथा हर साल मेलों में त्योहारों में या अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों में लोक नृत्य परफॉर्म किया जाता है।

Contents hide

Nati dance video

लोकनृत्य क्या है? What is Folk Dance?

पारंपरिक सांस्कृतिक जीवन से भरपूर, आम लोगों के द्वारा आनंद उमंग से भरकर सामूहिक रूप से किए जाने वाले नृत्य को लोक नृत्य (Folk Dance) कहा जाता है।

लोक नृत्य में स्थानीय लोगों के जनजीवन, उसके संस्कार, उनका आध्यात्मिक में विश्वास से जुड़ा होता है। तथा देवी देवताओं को मनाने, उन्हें खुश करने के लिए किया जाता है।

हिमाचल प्रदेश के लोगों के द्वारा बहुत तरह के लोकनृत्य परफॉर्म किए जाते हैं। हमने अपने लेख में एक-एक करके पूरी डिटेल में हिमाचल प्रदेश के Traditional dance के बारे में बताया है।

हिमाचल प्रदेश के Traditional dance तथा Folk Dance क्या है? 

हिमाचल प्रदेश एक ऐसा राज्य है जहां खुशी को जाहिर करने के लिए अक्सर लोग तरह तरह के  नाच गान करते हैं। इसलिए इस राज्य में बहुत तरह के Folk Dance किये जाते हैं।

1.नाटी (Nati dance)

2.डांगी लोक नृत्य (Dangi folk dance)

3.छन्नक छमी लोक नृत्य (Chhanak Chham Folk Dance)

4.छम नृत्य (Chham dance)

5.डंड्रास लोक नृत्य (Dundras Folk Dance)

6.लाहौली नृत्य (Lahauli Dance)

7.ठोडा लोक नृत्य (Thoda folk dance)

8.कयांग माला नृत्य (Kayang Mala dance)

9.दानव (राक्षस) नृत्य (Danav dance)

10.दलशोन और चोलम्बा नृत्य (Dalshon and Cholamba dance)

11.जनजातीय नृत्य (Tribal dance)

नाटी डांस (Nati dance) क्या होता है?

Nati Dance हिमाचल प्रदेश के क्षेत्र के अनुसार किस लोक नृत्य के अलग-अलग रूप देखने को मिलते हैं इनमें प्रमुख है कुल्लू नाटी, किन्नौरी नाटी, गद्दी नाटी, शिमला नाटी इत्यादि।

Nati Dance Of Himachal Pradesh ( Nati Dance kya hai)
Nati Dance of Himachal Pradesh (nati डांस)

Nati Dance मुख्य रूप से दो उद्देश्य से किया जाता है। पहला यह कि जब नया साल आता है। तथा दूसरा जब खेतों से फसल कटकर घर आ जाते हैं। अपनी कड़ी मेहनत के बाद जो फसल का उत्पादन होता है उन्हें देखकर जो खुशी होती है। उन खुशी को व्यक्त करने के लिए नाती नृत्य करते हैं।

Know your future:- जाने आपकी राशि क्या है? अपनी राशि खुद से जानें ?

नए-नए त्यौहारों के दौरान किन्नौरी नाटी का प्रदर्शन किया जाता है खासकर इन मौकों पर नर्तक के द्वारा पहाड़ियो, पेड़ो और बहने वाली नदियों की प्रकृति का पेंटिंग बनाते हैं।

Nati Dance के सबसे ज्यादा प्रसिद्ध नृत्य कुल्लू नाटी है जो कि खासकर दुर्गा पूजा के अवसर पर किया जाता है। इस नृत्य में नर्तक तरह-तरह के रंग बिरंगे कपड़े पहन कर नृत्य करते हैं।

2. डांगी लोक नृत्य (Dangi folk dance) क्या है?

डांगी लोक नृत्य लोक कथाओं पर आधारित हिमाचल प्रदेश की सबसे फेमस लोक नृत्य में से एक मानी जाती है। यह नृत्य खासकर नैना देवी के मंदिर में फसल कटने के मौसम के दौरान किया जाता है।

डांगी लोक नृत्य में खासकर  महिलाओं के द्वारा डांस परफॉर्म किया जाता है। वहां के स्थानीय लोगों की भावनाओं से जुड़ा होता है इसलिए इस डांस को बहुत ही उत्साह और जोश से परफॉर्म किया जाता है।

अफीम के अनुसार गांव की एक साधारण लड़की और एक राजशाही परिवार का राजा के बीच की प्रेम कहानी को भी यह दर्शाता है। साथ ही इस थीम मैं एक ग्राहक और एक व्यापारी के बीच व्यापार की लेनदेन को भी  दिखाया गया है।

3.छन्नक छमी लोक नृत्य (Chhanak Chham Folk Dance) क्या है?

छन्नक छमी लोकनृत्य खासकर लामा समुदाय के लोगों के द्वारा मनाया जाता है। क्योंकि इस नृत्य का संबंध भगवान गौतम बुद्ध से है। उनकी स्मृति में इस नृत्य को बहुत ही शानदार तरीके से प्रदर्शित किया जाता है।

छन्नक छमी लोकनृत्य  सुनहरे काले और पीले रंग के कपड़े की वजह से नृत्य करने वाले की पोशाकें झिलमिलाती है। इस नृत्य में डांसर अपने हाथ में चाकू और तलवार रखते हैं। जब काले मुंह खोटो पहनकर नर्तक धीमी धीमी और गोल गोल घूमते हैं देखना काफी मनमोहक लगता है। यह हिमाचल नृत्य धीमी गति से चलने वाले अन्य नदियों की तुलना में एक सुंदर लोक नृत्य है।

Must Read:- बिहार का भूगोल !{Geography of Bihar}! बिहार का नक्शा!!

4.छम लोकनृत्य(Chham Folk Dance) क्या है?

बौद्ध भिक्षुओं के बीच भी छम लोक नृत्य काफी प्रचलित है। बौद्ध भिक्षुओं के द्वारा मठों में इसका आयोजन बहुत ही धूमधाम से करते हैं। छम लोक नृत्य में छम नृत्य पोशाक, विस्तृत टोपी और बारीक तैयार किए गए मुखोटो के लिए कुछ ज्यादा ही प्रसिद्ध है यह भी लामा समुदाय के लोगों द्वारा पसंद किया जाता है और प्रदर्शन भी

5.डंड्रास लोक नृत्य (Dundras Folk Dance) क्या है?

डंड्रास लोक नृत्य हिमाचल प्रदेश के गद्दी जनजाति के द्वारा परफॉर्म किया जाता है। यह जनजाति खासकर हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले के भरमौर क्षेत्र में एक खानाबदोश चरवाहा जनजाति है। डंड्रास लोक नृत्य एक पारंपरिक नृत्य है जिसे आमतौर पर छोटी छरिया के द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। और ऐसा देखा गया है वह लोग डांस करने में इतने मग्न हो जाते हैं कि घंटों तक लगातार डांस करते रहते हैं।

Also Read : बिहार की राजधानी कहां है? 2021!!Bihar ki Rajdhani kaha hai!!

6.लाहौली नृत्य (Lahauli Dance) क्या है?

लाहौली नृत्य लद्दाखी वाद्य यंत्रों के थाप पर किया जाता है। लाहौली नृत्य करते समय अक्सर लोग लद्दाखी संगीत का उपयोग करते हैं।नृत्य शैली लाहौली होती है। इसमें नर्तक खासकर अपने हाथों को बंद करके तथा लयबद्ध तरीके से परफॉर्म करते हैं। नर्तकों के आभूषण पत्थर और मोतियों से बने होते हैं। साथी कढ़ाई वाले लंबे गाउन के साथ में मैचिंग जैकेट पहनना पसंद करते हैं। लाहौली नृत्य लद्दाखी नृत्य के समान दिखता है।

7.ठोडा लोक नृत्य (Thoda folk dance) क्या है?

ठोडा लोक नृत्य खासकर ठोडा जिला सिरमोर की योद्धा जाती खुद द्वारा क्या जाने वाला एक खेल नृत्य है। जिसे एक खास अवसर बिशु मेले पर परफॉर्म किया जाता है। इस इस नृत्य में युद्ध नृत्य शैली का अवशेष दिखता है क्योंकि यह नृत्य दो गुटों के बीच किया जाता है। जिस तरह से युद्ध करने के लिए दो गुट का होना जरूरी है। उसी तरह से इस नृत्य को करने के लिए दो गुट होते हैं।

इस लोकनृत्केय बारे में कहावत है कि इससे लोग महाभारत के युद्ध कौरव और पांडवों के युद्ध से जोड़ते हैं। ठोडा लोक नृत्य के बारे में उनका कहना है की गौरव सौ थे इसलिए एक गुट साठी जबकि पांडव पांच से इसलिए उन्हें पाशी कहां गया। यह  युद्ध साठी और पाशी के बीच लड़ा जाता था। और लड़ने से पहले युद्ध का झलक नृत्य शैली के द्वारा परफॉर्म करके दिखाया जाता था।

8.कयांग माला नृत्य (Kayang Mala dance) क्या है?

कयांग माला नृत्य हिमाचल प्रदेश की सबसे लोकप्रिय नृत्य में से एक मानी जाती है। क्योंकि इसमें Performer मोतियों की माला से अपनी बाहों को बहुत अच्छे तरीके से सजाते हैं। और इस डांस को देखने के लिए वहां के लोग बहुत उत्सुक रहते हैं। कायंग माला नृत्य को हिमाचल वासियों के साथ-साथ देश विदेश के कोने कोने में लोग देखना पसंद करते हैं।

9.दानव (राक्षस) नृत्य (Danav dance) क्या है?

दानव नृत्य नाम से ही पता चलता है कि यह नृत्य बुराई पर अच्छाई की जीत की खुशी में किया जाता होगा ।रियलिटी भी यही है क्योंकि प्राचीन समय में जब राक्षस या दानव आम लोगों की फसल को नष्ट किया करते थे। तो अच्छी ताकत आकर उन्हें बचाती थी।

पुरुष और महिलाओं के द्वारा दानव नृत्य एक दूसरे का हाथ पकड़ कर परफॉर्म करते हैं यह नृत्य खासकर किन्नर जाति के द्वारा स्थानीय त्योहार जैसे चैतोल, विशु इत्यादि के अवसर पर किया जाता है।

10.दलशोन और चोलम्बा नृत्य (Dalshon and Cholamba dance) क्या है?

दलशोन और चोलम्बा नृत्य शैली किन्नौर जिले के प्रसिद्ध रूपा घाटी से संबंधित है। इस नृत्य के अवसर पर खासकर मरे हुए जानवर की नाक में आभूषण डालकर मृतकों के अवशेष को चारों तरफ घुमाया जाता है। और उसी के चारों ओर डांस किया जाता है।

गांव और जंगल के जीवन के दृश्य का भी दर्शन दलशोन और चोलम्बा करवाता है. अधिकांशत गांवों में सुना कयांग नृत्य किया जाता है।

FAQ (Frequently asked questions) about Nati Dance

भारत में कितने प्रकार के लोक नृत्य किए जाते हैं?

भारत में कुल आठ तरह के क्लासिकल नृत्य तथा 30 से ज्यादा लोक नृत्य किए जाते हैं जिनमें से कुछ फेमस लोक नृत्य घूमर, कच्ची, कल बेरिया इत्यादि।

India के Folk Dance kaun kaun se हैं?

कर्नाटक- यक्षगान
केरल- मोहिनी अट्टम
महाराष्ट्र- लावणी
मध्यप्रदेश- जावरा

गोवा का folk Dance क्या है?

Dhalo गोवा का पॉपुलर dance है।

Nagaland का Folk Dance क्या है?

Nagaland का Folk Dance 
 Agurshikukula, Butterfly Dance, Aaluyattu, Sadal Kekai, Changai Dance, Kuki Dance, Leshalaptu, Khamba Lim, Mayur Dance, Monyoasho, Rengma, Seecha and Kukui Kucho, Shankai and Moyashai 

What is the oldest dance of India?

Oldest dance of India is Bharatanatyam.

What is the national dance of Tamilnadu?

भरतनाट्यम

What is the dance of Kerala?

कथकली

What is the god of dance?

नटराजा

आज के आर्टिकल में हमने बताया हिमाचल प्रदेश के famous लोकनृत्य कोन कौन से है {Himachal pradesh ke famous lok nritya (Folk Dance) kaun kaun se hai }? साथ ही हमने ये बताया की Nati Dance in Hindi क्या होता है . इन सबका चर्चा हमने डिटेल्स में किया है . अगर हमारा ये आर्टिकल आपको पसंद आया

Share on:

Leave a Comment