बाज नामक कर का क्या महत्व था?

Dear Readers कर का हिंदी में मतलब होता है “Tax”! कर गवर्नमेंट के द्वारा अपने नागरिकों से लिया जाता है क्योंकि कर से ही देश चलता है। गवर्नमेंट इसलिए Tax लेती है। क्योंकि उन्हें नागरिकों को सुरक्षा प्रदान करना होता है।आज के इस ब्लॉग में बात करने वाले है बाज़ नामक कर क्या होता है?

Baaz-Namak-kar-ka-kya-mahatw-tha

👌👌👌👌

साथ ही साथ अगर कोई आपदा आ जाए, उस समय सरकार के द्वारा नागरिकों की हर संभव मदद करने का प्रयास रहता है।इसी क्रम में हम बात करेंगे। बाज नामक कर क्या था। यह प्रश्न गूगल पर बहुत ज्यादा सर्च हो रही है। सिंपल सी बात है  कि किसी ना किसी सुरक्षा के लिए गवर्नमेंट के द्वारा कर लिया जाता होगा। 

तो आइए हम जानेंगे कि बाज नामक कर क्या था?

वैसे सबको पता है कि बाज एक पक्षी का नाम है। जो एक शिकारी पक्षी कहलाता है। बाज पक्षी बहुत ही शातिर और मांसाहारी होती है। लेकिन बाज नामक कर का इस बात से कोई लेना देना नहीं है।

Read Also

मंगोल और फारस की सरकार के द्वारा वहां के यात्रियों को सुरक्षित यात्रा करवाने के बदले कर (Tax) लेते थे। जिसको वहां की सरकार ने बाज नामक कर नाम दिया। बाज़ नामक कर वहां के व्यापारियों के द्वारा वसूला जाता था। कर देने का यह भी मतलब होता था कि वहां के व्यापारी या फिर नागरिक मंगोल और फारस की स्वाधीनता स्वीकारते हैं।

फारस में बाज नामक कर को Piazza कहां जाता था।

तथा बाज नामक कर को Greige कहा जाता था।

Share on:

Leave a Comment